आबौ एक घरी हँसएँ

आबौ एक घरी हँसएँ

धनगढी,१० पुस ।

चुट्किला
ऐया खेतके जबैया रहए तओ अपन लौडिया से कहात हए । आज मए खेत से थुर देरमे आमंगो । .
ऐया : ललोरी खानु पकाए लिए ने
लौडिया : अहाँ, तओ कए माना पकए हौँ ।
ऐया : पाँच माना
तओ लौडिया मनए मन सोचन लागी मिर घरमे त एकए माना हए बाँकी चार माना कहाँ पामौ, फिर लौडिया एक उपाय निकारी कि बाँकी चार माना अपन आस परोस से माँग के ल्याई, ऐसी करके ब पाँचौ माना पकाए दै । तओ साँझ के बक ऐया आई कही………….
ऐया : ललोरी खानु पकाए डारो ?
लौडिया : अहाँ, आपन कि घर एक माना रहए तओ मए बाँकी चार माना परोसीन से माँग के डार दओ ।

सेयर कर दियो ।
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

विज्ञापन