राजनिती , समुहगत या व्यतिगत स्वार्थके ताहीँ भए समाजसे जुड़े कार्यके मान्यता नादेहएँ : नेपाल रानाथारु समाज

राजनिती , समुहगत या व्यतिगत स्वार्थके ताहीँ भए समाजसे जुड़े कार्यके मान्यता नादेहएँ : नेपाल रानाथारु समाज

धनगढी,२० जेठ । नेपाल रानाथारु समाज केन्द्रिय कार्यसमिती कैलाली,कञ्चनपुर जुम मिटिङ्ग करके विविध विषयमे भओ छलफलसे कैलाली और  कञ्चनुरमे बैठनबाले रानाथारु समुदायके २०७६ माघ २० गते मन्त्रिपरिषदको निर्णय बमोजिम २०७७ जेठ ५ गते मामिला तथा सामान्य प्रशासन मन्त्रालयसे प्रकाशित नेपाल राजपत्र अनुसार विधिवत रुपमे आदिवासी जनजातीको सुचिमे सुचिकृत भओ सन्दर्भमे समस्त रानाथारु समुदाय नेपाल सरकार लगायत सहयोगि संस्थनके उच्च सम्मानके साथ धन्यवाद दइ हए बताइ । 

अइसी करके मिति २०७७ जेठ १३ गते विभिन्न संचार माध्यममे रानाथारु भाषाको इतिहास लेखन सम्बन्धी समाचारके ध्यानअकर्षण करतए ने.रा.था.स केन्द्रीय कार्यसमिती विविध निर्णय करी हए ।  रानाथारु जातिसे जुडो भओ महत्वपुर्ण एवं संवेदनशील पक्षके राजनिती , समुहगत या  व्यतिगत स्वार्थसे करो भओ कार्यके मान्यता नादेहए नेपाल रानाथारु समाज बताइ, और ऐसे काम ना करन सबएके अनुरोध करी हए । और ऐसे काममे साथ नाए देन  सम्बन्धित सरकारी निकायसे अनुरोध करीहए । समाजसे जुड़े महत्वपूर्ण कामके सबए मिल्के एकए धारणा बनाएके आगु बढन प्रेस विज्ञप्तिको मूल मर्म हए ।

ऐसी करके बैठकमे रानाथारु समुदाय समाजिक संस्कृतिक महत्व लएभओ समाज हए । जा वर्ष कौन चाडपर्व कब पडो कहिके तिथिमितिक निर्धारण करिहए ताकि कोइफिर चाडपर्वमे एकरुपता रहएँ कहिके अपेक्षा लइके विज्ञप्ती मार्फत मनानके अनुरोध फिर कहिहए । जुम बैठकके अध्यक्षता संस्थाके अध्यक्ष कृपाराम रानाके अध्यक्षतामे भओ रहए कहिके जानकारी उपाध्यक्ष कमल सिं राना जानकारी दइहएँ ।  ऐसी ने.रा.था. स. के पधाधिकारी मिलाएके एक सचिवालय गठन करन संगए रानाथारु समुदायको थप अधिकार प्राप्तिके ताही सरकारसे रानाथारु प्रतिष्ठान या आयोग या अइसी कोइ निकायकि माग करन निर्णय भओ कहिके उपाध्यक्ष राना बताई हएँ ।

  

सेयर कर दियो ।