मगरू चलचलएँ कंचनपुर , जल्दी जल्दी सम्हर ( इतबारी अाै मगरू कि बाँकि बात)

धनगढी , २२ भादाैँ २०७६ ।


इतबारी: हलो हलो ए मगरु कैसो रे अबाज कैसो कैसो लागत हए ।
मगरु: हं बता?
इतबारी:चल चलए आजौ जान हए कंचनपुर जल्दी जल्दी सम्हर।
मगरु: ए इतबारी तए जा मिर मुस्किलए हए।
इतबारी : कैसी मुस्किल ? अरे जल्दी सम्हर।
मगरु : मोके आज अच्छो ना लागत हए । तए जा। मोके जाडो आएरहो हए।
इतबारी: ओहो तौ भर्राउर्रा के देखओ कि नाए हैं?
मगरु: देखाे त रहौं।
इतबारी : तौ ?
मगरु: समस्या हए रे । मोकेत डैनी लागि बतात हएं । बाहिर जानौं नैयां। अब मए कैसे करौं ? दरबारी आओ रहए बो कहि हस्पताल जान । भर्रा मानत नैया अस्पताल जान के । और जाडो भरोक भरो रहत हए । मए का करौं आर अब तहिं बता?
इतबारी : सुन मए आज भल्मन्सा से कहमंगो गौंटेहरके बुलान और जे डैनहिंयाके ठिक लगान नत जे पुरो गाउँ बिगाड्देहएं । ठिक हए तए कहुं मत निकरए । भर्‍रा कहि हएतौ मान बाकी ।
मगरु : ले ले तए जैए ।जैसो जैसो होबए बतैए ।

बाँकि बात ………..

विज्ञापन