रानाथारू भाषाकाे आवस्थाके बारेम छलफल करन आएरहे हएँ

रानाथारू भाषाकाे आवस्थाके बारेम छलफल करन आएरहे हएँ

धनगढी,१ जेठ ।

अभय नेपाल सरकार रानाथारु भाषाके भाषाआयोगसे नेपालमे बोलनबारो भाषाके रुपमे सुचिकृत करिहए । तबहिक मारे रानाथारु भाषाको अवस्था रानाथारु भाषिमे कैसो हए और जक बिकासके ताँहि राज्यपक्षसे काकरन पडैगो । जा बिषयमे छलफल करन ताँहि हरेक महिनामे अलग अलग बिषय बस्तुलइके आज कि कचेहरी कार्यक्रम मार्फत छलफल करामंगे । जेठ ३ गते सनिचरके राेज दुपहार २ बजेसे ३ बजे कोरोना बिशेष कार्यक्रम अन्तरर्गत आज कि कचेहरी कार्यक्रममे प्रस्तोता भक्तराज रानाके संग छलफलमे सहभागि पुर्व माननिय प्यारेलाल राना , भाषाबिद जिवन राना , भाषाबिद कमल सिंह राना औ कलाकार नरायण राना होमंगे । दर्शकलोगनको जिज्ञासाके मध्य नजर करन ताँहि कमेन्टके इन बक्स खुल्ला हए । कमेन्टके माध्यमसे अपन प्रतिक्रिया धरसकत हौ । कमेन्टमे अचारणयुक्त भाषाके मात्र सम्मानित करोजबैगो ।
नेपालमें तराइके कैलाली ,कंचनपूर, बर्दिया और भारतके उत्तर प्रदेश, उत्तराखण्ड जिलामे रानाथारु जाती सदियौ से बैठत आए हए । जे रानाथारुनके अपन अलग रहनसहन चालचलन अपन अलग भेषभूषा पैंधन रिती संस्कृति बानी ब्यहोरा हए । रिती संस्कृति भितर बहुत जाद्यी नाच गित रानाथारुको हस्तकला और खेलसे लैके रानाथारुक साहित्य रानाथारुक उत्पत्ति उत्थान समाबेश हए । जौन गैर रानाथारुनके रितीसंस्कृतीसे एकदम अलग देखापड़त हए । अगर रानाथारुक रिती संस्कृतिके गहिरो और अल्गयसे ढुडतहएँ त जामे रानाथारुको वास्तबिक पहिचान और अमूल्य बात हमर सम्पतिके रुपमें लुकी हए ।
जौन रानाथारुक पहिचान इकल्लो नाए पूरा देशमे पहिचान करबा देनबाली सम्पतिके रुपमे हए । और जेहे से हम अभयतक नेपाल लगयत भारतमे चिन्हात अए हँए । जाके संरक्षण संबद्घन करनके ताँही सब अपन अपन ठाउँसे प्रयास करदेन पड़ो । और प्रयास करत अए रहेहँए । कोइ पत्रपत्रिका मार्फत कोइ रेडियो मार्फत त कोइ संघसंस्था मार्फत से करत आए सबकी अलग अलग क्षेत्र हए । ऐसिय सब कोइ अलग डगरसे नेगनसे जौन ठाउँमे पुगनहए और पुगन रहए पर बो ठाउँमेँ नपुगपाए , तवहिक मारे सबके एक दुस्रे जनै से सहकार्य करत जान जरुरी हए । और जाके लोप होन नादेनके ताही जाके बचानके ताँही अच्छो बाँध(मेड़ा) बनान के ताँही सबयको कर्तव्य हए । यिनही के मध्य नजर करके अपन ठाउँसे कुछ मजबुत बाधके रुपमे “आँगनबारी मिडिया प्रा . लि ” द्वरा संचालित रानाथारु डटकम हए । रानाथारु डटकम दुइ भाषा ( रानाथारू औ नेपाली ) मे संचालनमें करत अएरहे हएँ ?

सेयर कर दियो ।

विज्ञापन